Skip to main content

सर्द मौसम मैं

सर्द मौसम मैं
वो देख रही थी
दरवाज़े को
किसी के आने की आहट थी
या एक ख्वाब था
उसने सोचा वो आएगा
और आते ही छु लेगा उसको
कस के पकड़ लेगा बाहों मैं
और जाने ना देगा कहीं...
जब उम्मीद का दिया बुझ गया
और उसने नज़र फेर ली दरवाज़े से
फिर पता नही क्या हुआ
बस एक अजीब सी खुश्बू समा गयी
नस-नस मैं
उसने मुड़ कर देखा
और बस देखती ही रह गयी
छेड़ के बोली थी
खुले दरीचों से आती हुई
ठंडी सबा
जल्दी से अपने जानम की
बाहों मैं समा जा
शायद कुछ हरारत का एहसास हो
और कुछ शरारत का आगाज़ हो
और दरवाज़ा भी हवा से बंद हो गय

Comments

Popular posts from this blog

तुम से ही मेरा जीवन है

तुम्हारे जाने के बाद जीवन का सारांश समझ आ गया वो जो अपने होते है उन्ही से जीवन होता है एक छोटी सी बात पे मैने कुछ बोल दिया तुमने उसको बड़ा बना कर बेवजह मोल दिया किसकी ग़लती कौन जाने बस देखता हूँ दरवाज़े को कोई दस्तक दे शायद क्या करूँ , किससे बात करूँ अकेला हूँ पर भीड़ है बौहत थक गया हूँ अपने से लड़ते लड़ते तुम्हारे बिना एक प्याला चाय का भी स्वाद नहीं देता बस तुम हो सामने तो ज़िंदगी कट जाएगी तुम से ही मेरा जीवन है

शहर बंद है (There is a lockdown)

शहर बंद है शोर बंद है कहर बंद है देश बंद है सरहद बंद है रकीब बंद है दोस्त बंद हैं करीब बंद हैं नसीब बंद हैं फ़ासले बंद हैं हौसले बंद हैं  नज़दीकियाँ बंद हैं सब नज़रबंद है जो खुली है वो आहिस्तगी है वो पुरसुकून दिल की आवाज़ है जो कह रही है की फिर से हयात के कुछ नये मानी निकालो कुछ नये मरसिम जोड़ो माज़ी को एक ख्वाब की तरह दरकिनार करो जो खुली है वो सोच की गहराई है अहसासों की अंगड़ाई है जज़्बात की शाइस्तगी है हवा का झोंका ये कह के अभी गया कुछ देर साँस भी तो ले लो थोड़ी सी In Roman, Shahar Band Hai Shor Band Hai Kahar Band Hai Desh Band hai Sarhad Band Hai Rakeeb Band Hain Dost Band Hain Kareeb Band Hain Naseeb Band Hain Faasle Band Hain Hausle Band Hain Nazdeekiyan Band Hain Sab Nazarband Hain Jo Khuli hai Wo aahistagi hai wo pursukoon dil ki awaaz hai jo kah rahi hai ki phir se hayaat ke kuch naye maani nikalo kuch naye marasim jodo maazi ko ek khwaab ki tarah darkinar karo Ko Khuli hai wo soch ki gahrai hai ahsaason ki angdai ha

Tohfe

Main usko tohfe deta hoon kabhi shampoo to kabhi aata ya sabun ya ghar ka bana khaana ek baar kuch kalam bhi diye the kabhi khoobsoorat guldaan nahi diye ya sukoon dene wali filmon ki DVD aur kuch na sahi chandni raatien bhi na de paaya Ye mera tariqa hai  kuch kahne ka kya kahna hai magar mujhe pata nahin ye harf jo hai "kuch"  bohat chhota sa hai "wasee" main mumkin ye kainaat hai uske tohfe kuch muktalif hote hain wo apnee gamzada tasveerein  jo ki apne phone se kheenchtee hai wo mujhe bhejtee hai uske tohfe yahin tak nahin hai wo mujhe ek samandar bhar ke qahqahe bhi nazar karti hai usko mil bhi jaate hain  aise mauke jab ham saath hote hain usko mere tohfe pasand aate hain (aisa usne kaha) wo mujhe ishq ka hadia pesh-e-khidmat karti hai aisa ishq jo bataya na jaye ye ishq se bhi khoobsoorat hai magar ye ishq bhi nahin lekin ye kuch aur bhi nahi wo mere diye hue shampoo se apnee zulfein dh